हेड ट्रांसप्लांट: चीनी डॉक्टर्स बदलेंगे वेलरी स्पिरिदोनोव का सिर

वाशिंगटन में पहली बार एक नामुमकिन सर्जरी फैसला लिया गया| यह सर्जरी हेड ट्रांसप्लांट(नया सिर लगाना) की थी जो की एक चीनी और इतावली सर्जन दुआरा मिल कर की गयी| इस सर्जरी की ख़ास बात या है की इस सर्जरी की मंजूरी एक रूसी शख्स ने अपनी जान जोखिम में दाल कर दे दी है|


वाशिंगटन पोस्ट के मुताबिक इस रूसी शख्स का नाम वैलेरी स्प्रिडोनोव है जिनकी उम्र ३१ साल है वे अपने पूर्वी स्थित घर में सॉफ्टवेर कंपनी चलते हैं| यह हेड ट्रांसप्लांट का कारन उनकी एक जेनेटिक बीमारी है जिसका नाम वर्डनिंग हॉफमैन डीजीज है|

इसकी वजह से उनकी सभी मांसपेशिया और मोटर न्यूरॉन ख़राब हो चुकी हैं जिससे उनके शरीर में सिर्फ इतनी शक्ति है की वे अपन भोजन कर सकें, टाइपिंग कर सकें, और आटोमेटिक व्हील चेयर पर घूम सकें| यह बीमारी अत्यधिक खतरनाक है| डॉक्टरों का मानना यह है की इससे वे जीवित नहीं बचेंगे|
loading...
Share on Google Plus

About Sunni Kumar

0 comments:

Post a Comment