पीएम मोदी की नोटबंदी योजना के पीछे थी 6 लोगों की टीम, जिन्होंने अति गोपनीय तरीके से काम को दिया था अंजाम!

नई दिल्ली: नोटबंदी का असर सभी तरफ दिख रहा है और आने वाले समय में इसके और भी बेहतर असर सामने आने की उम्मीद जताई जा रही है।मीडिया सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी योजना की जानकारी को गुप्त रखने के लिए अपने एक भरोसेमंद अधिकारी समेत 6 लोगों की टीम को चुना था।



कहा जा रहा है कि इन लोगों का चुनाव मोदी ने खुद किया था। ये भी कहा जा रहा है कि ये लोग पीएम के घर पर गुप्त रूप से काम करते थे। बताया जाता है कि मोदी के नोटबंदी के फैसले की किसी को भनक न लगे इसके लिए सभी अघिकारियों को कसम दिलाई गई थी।


इस अधिकारी के बारे में भारतीय फाइनेंशियल सर्कल में बहुत कम जानकारी थी। मामले की जानकारी रखने वाले सूत्रों ने बताया कि मोदी के भरोसेमंद अधिकारी राजस्व सचिव हसमुख अधिया और 5 अन्य लोगों को इस अति गोपनीय योजना के बारे में जानकारी थी।
हसमुख अधिया ने ही योग से मोदी का परिचय करवाया था। 8 नवंबर को मोदी के नोटबंदी के फैसले के तुरंत  बाद अधिया ने ट्वीट किया था - कालेधन पर लगाम कसने के लिए यह सरकार का लिया सबसे बड़ा और बोल्ड कदम है।
इसके अलावा मोदी के आधिकारिक आवास के दो कमरों में एक रिसर्चर्स की टीम इस अहम योजना को सफल बनाने के लिए दिन-रात एक किए हुए थी। दरअसल इस योजना को इसलिए भी गुप्त रखा गया था क्योंकि अगर इसकी जानकारी लीक हो जाती तो लोग अपने अवैध धन को सोना, जायदाद और अन्य संपत्तियों में खपा सकते थे।
मोदी ने 8 नवंबर को 500 और 1000 के पुराने नोटों को बंद करने की घोषणा कर दी थी। भारतीय इकॉनमी में ये नोट करीब 86 फीसदी थे।
Source:- Zeenews
loading...
Share on Google Plus

About Madhuri Mehra

0 comments:

Post a Comment